Monday, December 1, 2008

क्या आप जानते है की मुंबई पर हमला क्यों किया आतंक वादियों ने ?


पूरा विश्व जानता है-हमारा मुंबई एक ऐसा अन्तराष्ट्रीय नगर है,जो तय करता है भारत का आर्थिक भविष्य । यहाँ का शेयर मार्केट निर्धारित करता है विश्व समुदाय में हमारी मजबूती को । ट्राम्बे उप नगर में स्थित भारत का परमाणु शक्ति अनुसंधान केंद्र प्रदान करता है भारत को आण्विक समृद्धि का आधार । महज सौ साल की विकास यात्रा के साथ सिनेमा जगत में किवदंती बन जाने वाला यह महानगर मुहैया करवाता है सबसे ज्यादा राजस्व भारतीय आर्थिक परिदृश्य को । समंदर की गोद में अपनी कलात्मक सुन्दरता को अक्शुन्य रखने वाला यह शहर पूरे भारत वर्ष को उसकी एक चौथाई आवश्यकता के अनुरूप पेट्रोलियम और गैस की आपूर्ति भी करता है और चौपाटी,जुहू , मध् ,मारावे, मनोरी और बरसाबा तटों पर आने वाले सैलानियों को महसूस कराता है स्वर्ग का सुख।

हमारी व्यापक प्रगति का आधार स्तम्भ है हमारी मुंबई । हमेशा से ही हमारी प्रगतिहमारे पड़ोसियों के लिए ईर्ष्या का विषय रहा है । उन्होंने सोचा क्यों न इनकी आर्थिक स्थिति को कमजोड कर दिया जाए , मगर पूरे विश्व में हमारी ताकत की एक अलग पहचान है , क्योंकि हमारा भारत महान है ।

आपको अगले पोस्ट में हम बताएँगे की क्यों गर्व करते हैं हम अपनी मुंबई पर ....तब तक के लिए शुभ विदा !

5 comments:

रवीन्द्र प्रभात said...

ब्लॉग जगत में आपका हार्दिक स्वागत है।

poemsnpuja said...

bloggin me aapka swagat hai...accha santulit aur sarthak likhne ki bahut awashyakta hai. aapki dono posts padhi, padh kar accha laga. ummid hai aap niyamit likhengi, meri shubhkaamnayein.

bhoothnath said...

aayiye....magar naajook kadmon se...kahate hain yahaan dil ko badi choten lagaa karti hain.... aur aapke kisi bhi kadam ke niche kisi kaa bhi dil chipaa jaa saktaa hai...chaliye jara sambhal ke "kateel" raahe-ishk hai...naajook badi hai aapki payal sambhaaliye...!!anytha naa lengi yun hi kah gaya... is vichaar jagat men aapkaa swaagat hai... khushaamdeed....!!

Dharmayan said...

bahut bahut dhanyabad bahut hi achha likha hai aapne .aage bhi aapka aalekh milta rahe aisi hame apeksha hai .

RC said...

MereKavimitra per aapki tippani padh kar aapke blog per aayi.

Achche vichaar hain. Achche articles likhtee hain aap. Aaj zyada waqt nahin milaa vistaar se padhne ko, kabhi fursat mein padhoongi.

God bless
RC